07/11/SH NEWS

As per the lawyer, upgradation of Grade Pay of LDC pending in CAT Jabalpur will be decided by a regular bench. To constitute a regular double bench sufficient judges are not available in CAT Jabalpur. The date of next hearing on the SLP filed against MACP on promotional hierarchy in Supreme Court is

Flash message

Monday, January 9, 2017

Second Meeting of the Anomaly Committee on the calculation methodology of the Disability Pension for Defence forces personnel as per the recommendations of the 7th Central Pay Commission


4 comments:

  1. ��बड़ी मेहनत के बाद मैंने बाबू की नौकरी पायी है,
    बाबू बना तो जाना, यहाँ एक तरफ कुआँ तो दूसरी तरफ खाई है।

    ��जहाँ कदम कदम पर ज़िल्लत, और घड़ी घड़ी पर ताने हैं,
    यहाँ मुझे अपनी ज़िन्दगी के कई साल बिताने हैं।

    ��अपनी गलती ना हो लेकिन क्षमा याचना हेतु हाथ फैलाने हैं.
    फ़िर भी बात-बात पे नोटिस और पनिसमेन्ट ही पाने हैं.

    ��जानता हूँ ये 'अग्निपथ' है, फिर भी मैं चलने वाला हूँ,
    क्योंकि मैं बाबू हूँ जिगर वाला हूँ।

    ��जहाँ एक तरफ मुझे प्रशासन की, और दूसरी तरफ पब्लिक की भी सुननी है,
    यानी मुझे दो में से एक नहीं, बल्कि दोनों राह चुननी हैं।

    ��ड्यूटी अगर लेट हुयी तो अधिकारी चिल्लाते हैं.
    गलती चाहे किसी भी की भी हो सजा तो हम ही पाते हैं.

    ��दो नावों पे सवार हूँ फिर भी सफ़र पूरा करने वाला हूँ,
    क्योंकि मैं बाबू हूँ जिगर वाला हूँ।

    ��आसान नहीं है सबको एक साथ खुश रख पाना,
    परिवार के साथ वक़्त बिताना, और CLबचाना।

    ��परिवार के साथ बमुश्किल कुछ वक़्त ही बिता पाता हूँ,
    घर जैसे कोई मुसाफिर खाना हो, वहां तो बस आता और जाता हूँ।

    ��फिर भी हर मोड़ पर मैं अपनी ज़िम्मेदारी पूरी करने वाला हूँ,
    क्योंकि मैं बाबू हूँजिगर वाला हूँ

    ��वेतन की बात पर, हमें सालो लटकाया जाता है,
    हक़ की बात करने पर ठेंगा दिखलाया जाता है।

    ��ये एक लड़ाई है, इसमें सबको साथ लेकर चलने वाला हूँ,
    क्योंकि मैं बाबू हूँ, जिगर वाला हूँ।

    ��मजबूरी ने इतना कुछ सिखाया, आगे भी बहुत कुछ सीखने वाला हूँ,
    क्योंकि मैं बाबू हूँजिगर वाला हूँ।

    �� लोग समझते है कि बड़ा मजा करते है,बाबू की नौकरी में

    �� अब उन्हें कौन समझाए ,बाबू के लिए सरकार के पास सिर्फ वादे है,
    पदाधिकारी चाहे मनमानी करे, बाबू के लिए बड़े सख्त कायदे हैं।

    �� सबको मैं बदल नहीं सकता, इसलिए अब ख़ुद को बदलने वाला हूँ,
    क्योंकि मैं बाबू हूँं, जिगर वाला हूँ।

    ��ये कविता मेरे समस्त बाबू भाइयोको समर्पित

    ReplyDelete
  2. What about the biggest anomaly of the sixth pay commission. The LDCs grade pay upgradation issue. Why is that this blog has suddenly stopped discussing and protecting the issue which was one of the main agenda for this website. Please reply me general secretary.

    ReplyDelete
  3. Yes you are absolutely right. All are silent on genuine issue of LDC UDC Grade Pay.

    ReplyDelete
  4. Why LDC UDC grade pay upgradation issue was not discussed in the Anomaly committee. It is the biggest anomaly of the sixth pay commission. The court case is held up due to non receipt of documents from anomaly committee. Why is that I feel that now this blog is not paying attention to LDC UDC grade pay upgradation case.

    ReplyDelete